Skip to main content

कैसे और क्यों होते है जुड़वा बच्चे ? जुड़वा बच्चे पाने के लिए क्या करें ?

ये सवाल हमारे मन में अक्सर उठता रहता है कि आखिर क्यों होते हैं महिलाओं को जुड़वा या फिर तिन बच्चे एक साथ. आज हम इसी सवालों का जवाब देने की कोशिश करेंगे.

आखिर क्या होती है multiple pregnancy ?


एक से ज्यादा देने की घटना हो medical term में multiple pregnancy कहा जाता है. ये बच्चे एक ही egg या फिर अलग-अलग egg से हो सकते हैं. Survey के अनुसार 200 महिलाओं में से 1 महिला ऐसी होती है जिसे जुड़वा बच्चे पैदा होते हैं.

जुड़वा बच्चे दो तरह के होते है , पहला होता है कि दोनों एक लिंग के और दूसरा होता है विपरीत लिंग के. एक लिंग के बच्चे ज्यादातर एक ही तरह के कद, शकल, स्वभाव के होते हैं. लेकिन कुछ विपरीत लिंग वाले बच्चे ऐसे हैं जिनकी शकल आपस में तो क्या घर के किसी भी सदस्य से नहीं मिलते.

कैसे और क्यों होते है जुड़वा बच्चे ?


जुड़वा  बच्चों के भी दो प्रकार होते हैं.

  1. अभिन्न जुड़वा.

  2. द्विअंडज या भ्रात जुड़वा


अभिन्न जुड़वा


जब कोई स्त्री अपनी अंडकोशिकाओं में एक पुरुष   के शुक्राणु (sperm) के होने से pregnant होती है और जब वो सुक्राणु उसके अंडकोशिकाओं में दो कोशिकाओं में में बट जाये तो इससे उस स्त्री को जुड़वा बच्चे होते हैं जिसे अभिन्न जुड़वा कहा जाता है क्योंकि ये एक अंडे में एक सुक्राणु के दो हिस्सों में बटने की वजह से हुआ है.

द्विअंडज या भ्रात जुड़वा


जब स्त्री दो अलग-अलग पुरुषों के शुकाणु से दो अलग-अलग अंडकोशिका में सुक्राणु को नेशेचित करती है तो उसके गर्भ में दो अंडे बनते हैं जिससे उसे जुड़वा बच्चे पैदा होते हैं. इन्हें द्विअंडज कहा जाता है. क्योंकि इसमें दो अलग सुक्राणु के दो अलग अंडे बनते हैं. ये जुड़वा बच्चे स्त्री-पुरुष के एक बार के सहवास क्रिया में ही हो जाते हैं.

स्त्रियों में डिम्बाशय में हर महीने एक नए डिम्बकोशिका एक नए डिम्ब यानि के एक नए अंडकोशिका का निर्माण होता है. वहीँ पुरुष सुक्राणु अनगिनत होते हैं. संयोगवस कभी-कभी स्त्रियों में दो अंडकोशिकाओं का naturally निर्माण हो जाता है. जिनमे दो अलग-अलग सुक्राणु के दो बच्चे जन्म लेते हैं. ये बच्चे थोड़े-थोड़े समय के अंतर पर पैदा होते हैं क्योंकि अभिन्न जुड़वा एक ही सुक्राणु के दो हिस्सों में बटने की वजह से होते हैं, तो इनकी शकल, कद और स्वभाव भी सामान होते हैं.

लेकिन भ्रात जुड़वा अलग-अलग अंडे में होने की वजह से एक दुसरे से अलग होते हैं जिससे इनकी आदतें और शक्लें एक दुसरे से नहीं मिलती.

जब किसी स्त्री के पेट में जुड़वा बच्चे होते हैं तो उन्हें इस बात का कई महीनों के बाद पता चलता है. ऐसी situation में पेट का आकर सामान्य से ज्यादा बड़ा हो जाता है. इसके बाद pregnant स्त्री जुड़वा बच्चों की दिल की धड़कन सुनकर भी इस बात का पता लगा सकती हैं.

एक बात दयां में रखे कि अगर किसी महिला को जुड़वा बच्चे हो रहे हैं तो वो कभी भी अपने घर पर delivery न करवाएं.

इस article को पूरा पढ़ने के लिये Next Page पर जाये.

जुड़वा बच्चे पाने के लिए क्या करें ?


जुड़वा बच्चे पाने का जरुरी आहार


अगर आप भी जुड़वा बच्चे पाना चाहती हैं तो आप अपने किस्मत या जिन के भरोसे न बैठे क्योंकि कुछ ऐसे पौष्टिक आहार भी हैं जो आपके इस सपने को आसानी से पूरा करने में आपकी help करेंगे. इस बात पर पूरी तरह से शौध हो चुकी है और इसी के आधार पर हम आपको ऐसे आहार के बारे में बता रहें हैं , जिनके नियमित सेवन से आपको जुड़वा बच्चे पैदा होने के possibility बहुत हद तक बढ़ जाती है.

Folic acid


जब आहार पर सौध हो रही थी तो जुड़वा बच्चों के जन्म और आहार में folic acid को साथ में रखकर देखा गया. Research में पाया गया कि folic acid शुक्राणु को दो हिस्सों में बाटने में सहायक है जिसमें अभिन्न जुड़वा होने की संभावना बनती है. तो आप अपने आहार में beans, पालक और चुकंदर की जरुर शामिल करें. आपको जुड़वा बच्चे होने के अवसर बहुत हद तक बढ़ जाते हैं.

Complex carbohydrate


Complex carbohydrate से ovulation की क्षमता बहुत हद तक बढ़ जाती है. तो अगर आप जुड़वा बच्चे चाहते हों तो आप खाने में complex carbohydrate को जरूर सामिल करें. जिसके लिए आप साबुत अनाज, beans और हरी सब्जियों का सेवन अधिक से अधिक करें.

जिमीकंद


Africa की एक जनजाति है जिसका नाम है यारुबा. इन जनजाति में देखा गया है कि इन्हें ज्यादातर जुड़वा बच्चे ही पैदा होते हैं. इस अदभुत बात को पता लगाने के लिए शौध की गई जिससे पाया गया कि ये अपने आहार में जिमीकंद का सबसे अधिक सेवन करते हैं. जिमीकंद में एक chemical होता है जो hyper ovulation में मददगार सिद्ध होता है.

Dairy products


हर dairy products में calcium की मात्रा अधिक होती है. Calcium न सिर्फ हड्डियों के लिए बल्कि प्रजनन प्रणाली के लिए बहुत लाभदायी होता है और इसे स्वस्थ रखता है. इसलिए जो स्त्रियाँ दूध पीती हैं उन्हें जुड़वा बच्चे होने की 5 गुना ज्यादा संभावना होती है. इसलिए महिलाओं को जुड़वा बच्चे पाने के लिए दूध, cheese, मक्खन, पनीर और दही का अधिक सेवन करना चाहिए.

Popular posts from this blog

कैसे होता है आप के साथ आनलाईन फ्राड

कैसे होता है आप के साथ आनलाईन फ्राड


आपने कभी सोचा है आपने जो मोबाइल नम्बर अपनी बैंक मे दिया है वह नम्बर फ्राड करने वाले के पास कैसे चला जाता है । आपने कौन सा नम्बर किस बैंक मे दिया है यह तो सिर्फ आप जानते हो या फिर बैंक फिर फ्राड करने वाले के पास आपका नम्बर कैसे पहुंच जाता है ? इसका मतलब या तो आप देते हो या बैंक । अब आप बोलोगे मै भला अपना नम्बर क्यु दूंगा फ्राड करने वाले को । तो क्या बैंक वाले देते है आपका नम्बर ?

अब अगर मै कहू कि दोनो ही इसके लिये जिम्मेदार है तो गलत ना होगा अगर फ्राड करने वाला बैंक की साइट हैक करके आपका नं निकाल लेता है तो इसमे तो आपका कोई जोर नही । लेकिन बैंक की साईट को हैक करना इतना आसान नही होता छोटे हैकरो के बस का यह काम नही होता । यह कम ही होता है ।
 तो आप सोच रहे होगे कि इसका मतलब मै ये कहना चाहती हु कि आप ही अपना नम्बर खुद देते है । तो आपका यह सोचना गलत नही है आप ही अपना नम्बर हैकर को देते है बल्कि नम्बर ही नही और भी बहुत कुछ् आप दे देते हो । हा ये बात अलग है कि आप यह सब अन्जाने मे करते है । आप सोच रहे होगें कैसे ? चलिये आपको डिटेल मे समझाता हु ।


जब आप कोई गे…

कलम और तलवार , हिंदी निबंध

कलम और तलवार के साधारण अर्थ से सभी परिचित हिं, लेकिन वास्तव में ये दोनों दो महान शक्तियों के प्रतिक हैं. कलम बुद्धिबल की सूचक है और विचारक्रांति की समर्थक है जब कि तलवार बाहुबल को सूचित करती है और हिंसक क्रांति की प्रतिक है.

आज की दुनिया में तलवार या भौतिक बल का बहुत महत्त्व है. आज जिनके पास अधिक बल है, वे कमजोर लोगों पर अत्याचार कर रहे हैं. तोपों और बमों की आवाज से सारा संसार भयभीत हिया. इस परिस्थिति का मुकाबला करने के लिए तलवार अर्थात बाहुबल या भौतिक शक्ति की आवश्यकता पड़ती है. वास्तव में आज संस्कृति और स्वदेश की रक्षा के लिए भौतिक शक्ति का सहारा अनिवार्य हो गया है.

फिर भी तलवार से - भौतिक शक्ति से - संसार का सदा कल्याण नहीं हो सकता. तलवार ने ही हरे-भरे नगरों को सुनसान खंडहरों में बदल दिया है; रक्त की नदियाँ बहाई हैं. भय, द्वेष और कुशंका ने लोगों के दिलों में तूफान खड़ा कर दिया है. तलवार ने मासूम बच्चों और बेसहारा औरतों पर अनगिनत अत्याचार किए हैं, सभ्यता और संस्कृति की धाराओं को उलट दिया है. मनुष्य को पशु बना दिया है.

दुनिया में ज्ञान का जो अपार भंडार सुरक्षित रह सका है, वह कलम के चमत्का…

Actor कैसे बने ? Actor बनने के लिए क्या-क्या करना पड़ता है ?

Acting करना आज-कल fashion सा हो गया है. लेकिन इधर-उधर acting करने में और professional acting career बनाने में बहुत फर्क होता है. Actor तो बहुत लोग बन जाते हैं पर एक सफल अभिनेता बनने के लिए सच्चे दिल से अटूट मेहनत करनी पड़ती है, जो हर इंसान नहीं कर पाता, ये एक ऐसा रास्ता है जिसमे success पाने के लिए दर-दर भटकना पड़ता है, बहुत से उतार-चढ़ाव देखने पड़ते हैं और फिर कही जा कर career का कुछ बनता है, ये भी possible है कि लाख कोशिश करने के बावजूद भी successful actor बनने का सपना नहीं achieve हो पाए. एक actor की जिंदगी का मतलब है, लगातार कोशिश.

हालांकि, acting में ये मायने नहीं रखता कि आपका रंग गोरा है या सावला, लेकिन ये जरूर मायने रखता है कि आपकी stage presence कितनी अच्छी है. आप अपनी audience को कैसे अपने acting के दम पर रुला सकते हो, हँसा सकते हो, उनमे जजबात भर सकते हो, उन्हें गुस्सा दिला सकते हो.

अगर मान लें आप में ये सब करने की ताकत है, और आपको लगता है कि आपकी acting से आप किसी को भी अपना दीवाना बना सकते हो तो अब सवाल ये उठ रहा है कि शुरुआत कहाँ से की जाये. इस article में हम आपको ' एक ac…