Skip to main content

कलम और तलवार , हिंदी निबंध

कलम और तलवार के साधारण अर्थ से सभी परिचित हिं, लेकिन वास्तव में ये दोनों दो महान शक्तियों के प्रतिक हैं. कलम बुद्धिबल की सूचक है और विचारक्रांति की समर्थक है जब कि तलवार बाहुबल को सूचित करती है और हिंसक क्रांति की प्रतिक है.

आज की दुनिया में तलवार या भौतिक बल का बहुत महत्त्व है. आज जिनके पास अधिक बल है, वे कमजोर लोगों पर अत्याचार कर रहे हैं. तोपों और बमों की आवाज से सारा संसार भयभीत हिया. इस परिस्थिति का मुकाबला करने के लिए तलवार अर्थात बाहुबल या भौतिक शक्ति की आवश्यकता पड़ती है. वास्तव में आज संस्कृति और स्वदेश की रक्षा के लिए भौतिक शक्ति का सहारा अनिवार्य हो गया है.

फिर भी तलवार से - भौतिक शक्ति से - संसार का सदा कल्याण नहीं हो सकता. तलवार ने ही हरे-भरे नगरों को सुनसान खंडहरों में बदल दिया है; रक्त की नदियाँ बहाई हैं. भय, द्वेष और कुशंका ने लोगों के दिलों में तूफान खड़ा कर दिया है. तलवार ने मासूम बच्चों और बेसहारा औरतों पर अनगिनत अत्याचार किए हैं, सभ्यता और संस्कृति की धाराओं को उलट दिया है. मनुष्य को पशु बना दिया है.

दुनिया में ज्ञान का जो अपार भंडार सुरक्षित रह सका है, वह कलम के चमत्कार का ही परिणाम है. कलम ने व्यास और वाल्मीकि, कालिदास और भवभूति, शेक्सपियर आदि महामानवों को अमर बना दिया है. महाभारत, रामायण, शांतुकल, हैमलेट, गीतांजलि आदि का सृजन कलम द्वारा ही हुआ है. कलम ने ही ज्ञान का दीप जलाकर दुनिया में उजाला फैलाया है. कलम में वह शक्ति है जो तोप, तलवार, बंदूक और बम में नहीं पाई जाती. कलम ने ही शासन-प्रबंध में बड़ी-बड़ी उथल-पुथल मचाई है. हमारे स्वतंत्रता-आंदोलन को जननी कलम ही थी.

देश के कल्याण के लिए कलम और तलवार दोनों की आवश्यकता होती है. अकेली तलवार महुष्य को निरंकुश बना देती है. अकेली कलम मनुष्य को प्राय: कमजोर और कोरा आदर्शवादी बना देती है. तलवार मनुष्य के शरीर को स्पर्श करती है, आत्मा को नहीं. पर कलम मनुष्य के अंतस्तल को स्पर्श करती है, उसकी आत्मा की गहराई तक पहुंच जाती है.

देशकाल के अनुसार कलम और तलवार दोनों की उपयोगिता है. कलम और तलवार का संयुक्त बल ही राष्ट्र का वास्तविक बल होता है.

Popular posts from this blog

कैसे होता है आप के साथ आनलाईन फ्राड

कैसे होता है आप के साथ आनलाईन फ्राड


आपने कभी सोचा है आपने जो मोबाइल नम्बर अपनी बैंक मे दिया है वह नम्बर फ्राड करने वाले के पास कैसे चला जाता है । आपने कौन सा नम्बर किस बैंक मे दिया है यह तो सिर्फ आप जानते हो या फिर बैंक फिर फ्राड करने वाले के पास आपका नम्बर कैसे पहुंच जाता है ? इसका मतलब या तो आप देते हो या बैंक । अब आप बोलोगे मै भला अपना नम्बर क्यु दूंगा फ्राड करने वाले को । तो क्या बैंक वाले देते है आपका नम्बर ?

अब अगर मै कहू कि दोनो ही इसके लिये जिम्मेदार है तो गलत ना होगा अगर फ्राड करने वाला बैंक की साइट हैक करके आपका नं निकाल लेता है तो इसमे तो आपका कोई जोर नही । लेकिन बैंक की साईट को हैक करना इतना आसान नही होता छोटे हैकरो के बस का यह काम नही होता । यह कम ही होता है ।
 तो आप सोच रहे होगे कि इसका मतलब मै ये कहना चाहती हु कि आप ही अपना नम्बर खुद देते है । तो आपका यह सोचना गलत नही है आप ही अपना नम्बर हैकर को देते है बल्कि नम्बर ही नही और भी बहुत कुछ् आप दे देते हो । हा ये बात अलग है कि आप यह सब अन्जाने मे करते है । आप सोच रहे होगें कैसे ? चलिये आपको डिटेल मे समझाता हु ।


जब आप कोई गे…

Actor कैसे बने ? Actor बनने के लिए क्या-क्या करना पड़ता है ?

Acting करना आज-कल fashion सा हो गया है. लेकिन इधर-उधर acting करने में और professional acting career बनाने में बहुत फर्क होता है. Actor तो बहुत लोग बन जाते हैं पर एक सफल अभिनेता बनने के लिए सच्चे दिल से अटूट मेहनत करनी पड़ती है, जो हर इंसान नहीं कर पाता, ये एक ऐसा रास्ता है जिसमे success पाने के लिए दर-दर भटकना पड़ता है, बहुत से उतार-चढ़ाव देखने पड़ते हैं और फिर कही जा कर career का कुछ बनता है, ये भी possible है कि लाख कोशिश करने के बावजूद भी successful actor बनने का सपना नहीं achieve हो पाए. एक actor की जिंदगी का मतलब है, लगातार कोशिश.

हालांकि, acting में ये मायने नहीं रखता कि आपका रंग गोरा है या सावला, लेकिन ये जरूर मायने रखता है कि आपकी stage presence कितनी अच्छी है. आप अपनी audience को कैसे अपने acting के दम पर रुला सकते हो, हँसा सकते हो, उनमे जजबात भर सकते हो, उन्हें गुस्सा दिला सकते हो.

अगर मान लें आप में ये सब करने की ताकत है, और आपको लगता है कि आपकी acting से आप किसी को भी अपना दीवाना बना सकते हो तो अब सवाल ये उठ रहा है कि शुरुआत कहाँ से की जाये. इस article में हम आपको ' एक ac…